fbpx class="post-template-default single single-post postid-501 single-format-standard custom-background wp-embed-responsive single-post-right-sidebar single-post-single fullwidth-layout columns-3 group-blog">
You are here
Home > Uncategorized > बालों और त्वचा की सभी समस्याओं को दूर करेगी नीम इस प्रकार करें उपयोग

बालों और त्वचा की सभी समस्याओं को दूर करेगी नीम इस प्रकार करें उपयोग

बालों और त्वचा की सभी समस्याओं को दूर करेगी नीम इस प्रकार करें उपयोग

हम सभी जानते हैं कि नीम एक औषधीय पेड़ है और इसके कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ है लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं नीम के कुछ ऐसे अनसुने स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के बारे में, तथा इसके उपयोगी तरीकों के बारे में जो आपके रोजमर्रा के जीवन में बहुत ही काम आने वाले हैं। तो नीम के बारे में इस महत्‍वपूर्ण जानकारी को जानने के लिए अंत तक जरूर पढ़े-

नीम के उपयोग और लाभ

नीम के उपयोग की बात करें तो इसका पूरा पेड़ ही स्‍वास्‍थ्‍य के लिए उपयोगी है, चाहे वह नीम की छाल हो, इसके पत्‍ते हों या फिर नीम दातून, किसी भी रूप में आप नीम के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

आमतौर पर इसकी पत्तियों का उपयोग हर्बल उपचार के रूप में किया जाता है लेकिन इसका तेल भी उतना ही फायदेमंद है जितना की इसकी पत्तियां।

त्‍वचा के लिए नीम का उपयोग

त्‍वचा के लिए नीम का उपयोग

त्‍वचा की कई समस्‍याओं को ठीक करने के लिए नीम का उपयोग किया जाता है, अगर आप त्‍वचा का सामान्‍य समस्‍याएं जैसे खुजली, फंगस या पिंपल और मुहासों से परेशान है तो नीम के तेल का उपयोग आपके लिए वरदान साबित हो सकता हैं-

इसके लिए आपको नीम के तेल का उपयोग नीचे दिये गये निम्‍न तरीकों से करना है-

  • एक कॉटन बॉल का उपयोग करें और इसे नीम के तेल में डुबाएं।
  • त्‍वचा समस्‍या से प्रभावित क्षेत्र इस तेल को लगाएं और कुछ देर लगा रहने दें।
  • बाद में, गर्म पानी से इसे धो लें।

बेहतर परिणाम के लिए आप इसका नियमित रूप से उपयोग कर सकते हैं। यदि आपकी त्‍वचा संवेदनशील है, तो इसके साथ अन्य तेल जैसे जोजोबा या नारियल तेल भी आप मिला सकते हैं।

बालों के लिए नीम का उपयोग

बालों के लिए नीम का उपयोग

अगर आप बालों की किसी भी प्रकार की समस्‍या जैसे बालों का गिरना, डैंड्रफ या जुएं की समस्‍या से परेशान हैं तो नीम की पत्तियॉं आपके लिए चमत्‍कार से कम नहीं हैं, जी हां यहां हम बताने वाले हैं नीम की पत्तियों के उपयोग के कुछ ऐसे तरीके जो आपको बालों की किसी भी प्रकार की समस्‍याओं से छुटकारा दिला सकती हैं।

  • बालों का झड़ना

अगर आप बालों के झड़ने के समस्‍या से परेशान हैं तो नीम का तेल आपके इस समस्‍या से छुटकारा दिल सकता है,

विशेषज्ञों का मानना है कि नीम के तेल से स्‍कैप्‍ल की मालिश करने से स्‍कैल्‍प में रक्त परिसंचरण बढ़ सकता है और नये सिरे से बाल उगने में मदद मिल सकती है। आप इसके प्रभावी परिणामों को पाने के लिए नीम के तेल में अन्‍य तैल जैसे जैतून, नारियल, जोजोबा, आदि तेल भी मिला सकते हैं।

नीम का तेल ही नहीं बल्कि नीम की पत्तियां भी बालों को झड़ने से रोकने का एक आसान तरीका है। सूखा नीम पाउडर लें और धीरे-धीरे इसमें पानी डालें और इसका एक दाने दार पेस्‍ट बनाएं, अब अपने हाथों का उपयोग करके इसे अपने स्कैल्प पर सावधानी से लगाएं। 30 मिनिट तक इसे लगा रहने दे बाद में इसे ठ़डे पानी से धो लें।

  • डैंड्रफ के लिए नीम का उपयोग

डैंड्रफ दुनिया भर में लाखों लोगों द्वारा सामना की जाने वाली सबसे आम समस्‍याओं में एक है। लेकिन एक आम समस्‍या होने के साथ साथ यह एक परेशान करने वाली समस्‍या भी है, लेकिन शायद ही आपको पता होगा, नीम का उपयोग आपके डैंड्रफ की किसी भी प्रकार की समस्‍या से छुटकारा दिला सकता है।

नीम के तेल से बालों की मालिश करना रूसी को रोकने के लिए सबसे प्रभावी उपायों में से एक है। नीम का तेल कई दुकानों में उपलब्ध है। हालाँकि, आप इसे घर पर भी तैयार कर सकते हैं। नारियल के तेल में कुछ नीम की पत्तियां मिलाएं और इसे उबाल लें। फिर इसमें नींबू की कुछ बूंदें मिलाएं। इस तेल को धीरे से अपने स्कैल्प पर रगड़ें, इसे रात भर रहने दें और सुबह इसे हल्के शैम्पू से धो लें। बालों पर किया गया यह सामान्‍य उपयोग आपको डैंड्रफ की परेशानी से छुटकारा दिला सकता है।

डैंड्रफ से छुटकारा पाने में नीम के उपयोग का एक और तरीका है जिसमें आप अपने आप को एक गाढ़ा और दानेदार नीम का पेस्ट बना सकते हैं। नीम और दही का संयोजन रूसी को रोकने का सबसे अच्‍छा तरीका है। यह पेस्ट स्‍कैल्‍प को एक्सफोलिएट, शुद्ध और पोषण करने में मदद करता है। नीम के पत्तों का पेस्ट बनाएं, और इसके साथ एक कटोरी दही में मिलाएं, इस पेस्‍ट कोअपने स्कैल्प पर लगाएं। 15-20 मिनट के लिए इसे लगा रहने दें और फिर इसे ठंडे पानी से धो लें। डैंड्रफ से छुटकारा पाने का यह एक सामान्‍य तरीका है।

  • जूँ से छुटकारा पाने के लिए नीम का उपयोग

सिर में जूँ की समस्‍या बच्‍चों से लेकर बड़ो तक किसी को भी परेशान कर सकती है। लेकिन नीम का उपयोग करने इस समस्‍या से छुटकारा पाना दुनिया के सबसे सरल तरीकों में से एक है। नीम का तेल जूँ के इलाज के लिए विशेषज्ञों द्वारा सुझाए गए सबसे अच्छे विकल्पों में से एक है।

इसके लिए आप नीम के तेल से अपने स्कैल्प की अच्छी तरह से मालिश करें और इसे रात भर के लिए छोड़ दें। अगले दिन, हल्के शैम्पू से अपने बालों धोएं इस प्रकार जूँ की समस्‍या से छुटकारा पा सकते हैं।

यह भी जरूर पढ़े- अब बालों को झड़ना होगा हमेशा के लिए बंद अपनाए ये प्रभावी तरीके और घरेलू उपचार 

दांतों के लिए नीम का उपयोग

दांतों के लिए नीम का उपयोग

नीम के कितने भी उपयोगों की बात की जाए कम है, अगर दांतों और मुहँ से सबंधित समस्‍याओं पर विचार करें तो, नीम का उपयोग आपके मुहँ स्‍वास्‍थ्‍य के लिए सबसे फायदेमंद साबति हो सकता है। नीम की पत्तियों और दातुन का उपयोग आमतौर पर होने मुहँ सबंधी समस्‍याओं से छुटकारा दिला सकता है।

नीम में निंबिडिन, निंबिन, निंबोलाइड, एजैडिरैचिन, गैलिक एसिड, एपेप्टिन, कैटेचिन और मार्गोलोन जैसे फाइटोकेमिकल घटक हैं। नीम का मुख्य सक्रिय घटक एजेडिरैक्टिन है, जो एक प्रभावी एंटी-माइक्रोबियल घटक है जो मुहँ के कीटाणुओं और जीवाणुओं खत्‍म करने में मदद करता है। यह उपयोगी घटक ही इसे मुहँ के लिए इतना प्रभावी बनाते हैं।

नीम दातून का उपयोग

नीम दातून का टूथब्रश के रूप में उपयोग करना सबसे सरल और सवस्‍थ तरीका है। अगर आप भारत में पले-बढ़े हैं, तो आपने कई लोगों को सुबह नीम की टहनी का इस्तेमाल करते हुए देखा होगा कि वे सुबह-सुबह अपने दांतों को ब्रश करते समय नीमदातून का उपयोग करतें हैं। बहुत से लोग अभी भी अपने दिन की शुरुआत नीम दातुन से करते हैं।

अगर आप भी नीमदातून टूथब्रश के रूप मे उपयोग करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको एक कोमल नीम की टहनी लेनी होगी जिसे आसानी से चबाया जा सके। आपको एक इंच तक नीम की टहनी इस्‍तेमाल से पहले चबाना होगा। जिससे कि यह एक प्राकृतिक ब्रश जैसे आकार में आ जाए, अब आप इस टहनी का उपयोग अपने दांतों को साफ करने के लिए जैसा कि आप एक सामान्‍य ब्रश के साथ करते हैं।

इस बात में कोई शक नहीं है कि नीम में मजबूत एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं, यही वजह है कि नीम दातुन से दांत साफ करने का चलन भारत में प्राचीन काल से चला आ रहा है। नीम दातून से मुंह साफ करने का सुरक्षित तरीका है।

मधुमेह (डाइविटीज़) के लिए नीम का उपयोग

मधुमेह (डाइविटीज़) के लिए नीम का उपयोग

यदि आपको या आपके किसी परिचित को मधुमेह है, तो आपके जानकर यह खुशी होगी की नीम मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है। इसके लिए आप रोजाना नीम का शरबत पी सकते हैं, या फिर मुट्ठी भर नीम की पत्तियों को चबा सकते हैं।

नीम की पत्तियां फ्लेवोनोइड्स, ट्राइटरपेनॉइड, एंटी-वायरल यौगिकों और ग्लाइकोसाइड्स से भरी होती हैं, जो रक्त शर्करा के स्तर को कंट्रोल करने में मदद कर सकती हैं।

मधुमेह रोगियों को अक्सर अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियमित करने के लिए कड़वे खाद्य पदार्थों की सिफारिश की जाती है। विशेषज्ञों के अनुसार, नीम के रस में एंटी-डायबिटिक गुणों के साथ कुछ सक्रिय पदार्थ होते हैं।

मधुमेह के लिए नीम का शरबत बनाने की विधि:

  1. लगभग 5 मिनट के लिए आधा लीटर पानी में लगभग 20 नीम की पत्तियों को उबालें।
  2. आप देखेंगे कि पत्तियां नरम दिखाई देने लगी हैं। पानी धीरे-धीरे गहरे हरे रंग में बदल जाएगा।
  3. इस पानी को एक कंटेनर में जमा करके रखें। इस काढ़े को दिन में कम से कम दो बार पिएं।

नीम का शरबत को उपयोग आपको मधुमेह बीमारी में चमत्‍कारी लाभ देगा।

यह भी जरूर पढ़े- सर्दी जुकाम और खांसी से तुरंत राहत दिलाने में असरदार हैं ये 11 घरेलू उपचार

Leave a Reply

Top