fbpx class="post-template-default single single-post postid-400 single-format-standard custom-background wp-embed-responsive single-post-right-sidebar single-post-single fullwidth-layout columns-3 group-blog">
You are here
Home > हिंदी > जानिए क्या है स्पनदोष या नाइटफॉल, इसके कारण और उपचार ?

जानिए क्या है स्पनदोष या नाइटफॉल, इसके कारण और उपचार ?

स्‍पनदोष

नाइट फॉल (Nightfall) या स्‍पनदोष पुरुषों में होने वाली बहुत आम घटना है, खासकर युवा इस समस्‍या से ग्रसित होते हैं। यह स्थिति रात में सोते समय या सुबह के शुरुआती समय में वीर्य के स्खलन की घटना। समस्या कभी-कभी युवा पुरुषों के लिए निराशाजनक बन सकती है क्योंकि वे इसके कारण को समझने में विफल रहते हैं और इस बारे में किसी के साथ इस पर चर्चा नहीं कर पाते ।

स्‍पनदोष (नाइटफॉल) की समस्‍या हर दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है। कुछ लोग केवल अपने किशोरावस्था यानी जवानी में इसका अनुभव करते हैं आज हम बात करने वाले इसी स्‍पनदोष के कारण और इसके कुछ उपचार के बारे में अगर आपको भी लगता है कि आप स्‍पनदोष से परेशान है तो इसे जरूर पढ़े-

क्‍या है स्‍पनदोष या नाइटफॉल?

क्‍या है स्‍पनदोष या नाइटफॉल?

नाइटफॉल, जिसे आमतौर पर स्‍पनदोष भी कहा जाता है, इसमें कोई व्‍यक्ति कामुक सपने के साथ अनैच्छिक रूप से अपने वीर्य का स्खलन करता है। यह प्रक्रिया नींद के दौरान होती है।

और कुछ लोग अपने पूरे जीवन में इसका अनुभव करते हैं। रात में बार-बार गिरना आलस्य, जननांग क्षेत्रों में कम सनसनी, पेशाब के बाद जलन और कम कामेच्छा पैदा कर सकता है

और पढ़े – जानिए क्यों होता है शीघ्रपतन या शीघ्रस्खकलन और कैसे करें इसका उपचार

स्‍पनदोष के कारण

Aswasth- health & fitness

जब एक आदमी सेक्स से परहेज करता है तो कम उम्र में नाइट फॉल(nightfall) होना आम है। लेकिन अगर ये हमेशा ही होता है तो यह शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव पैदा कर सकते हैं। यहां इसके कुछ सामान्‍य कारण हो सकते हैं-

  1. कमजोर नसों, प्रोस्टेट ग्रंथि और भावनाओं को नियंत्रित करने में असमर्थता को अक्सर स्‍पन्‍दोष का प्राथमिक कारण माना जाता है
  2. बार-बार सेक्स करने या आत्म-उत्तेजना करने वाले पुरुषों को भी स्‍पन्‍दोष का खतरा हो सकता है।
  3. दवाओं के साइड इफेक्ट्स जैसे ट्रेंक्विलाइज़र, हाई ब्लड प्रेशर की दवाएँ, शामक आदि नाइटफॉल की आवृत्ति को बढ़ा सकते हैं
  4. सुस्त जीवनशैली, मधुमेह, मोटापा, लंबे समय तक बैठना, कम कामेच्छा, तनाव, चिंता और अवसाद हार्मोन के संतुलन को प्रभावित करते हैं, नसों को कमजोर करते हैं और स्‍पनदोष का कारण बनते हैं।

और पढ़े – क्या हस्तमैथुन शरीर के लिए हानिकारक है ? यहां जाने हस्तमैथुन पर डॉक्टरर्स की राय

स्‍पन्‍दोष से शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव

स्‍पन्‍दोष से शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव

यौन विशेषज्ञों की माने तो यह एक सामान्‍य बीमारी जो समय के साथ ठीक हो जाती है, लेकिन ठीन न होने पर इससे शरीर पर कई प्रभाव हो सकते हैं-

  • आंखों के नीचे गाले गढ्ढे होना।
  • बहुत अधिक नींद आना।
  • शरीर कमजोर होना।
  • तनाव होना।
  • सेक्‍स लाइफ में तनाव।
  • नंपुसकता।
  • शीघ्रपतन

इसे कैसे नियंत्रित किया जा सकता है?

इसे कैसे नियंत्रित किया जा सकता है?

  1. व्यायाम और टहलना शरीर को फिट रखता है और रात को सोने से पहले स्नान करने से मन और नींद में आराम होता है, और इस स्‍पन्‍दोष के खतरे का कम किया जा सकता है।
  2. बिस्तर पर जाने से ठीक पहले मूत्रत्याग भी स्‍पन्‍दोश(nightfall) को कम करने में मदद कर सकता है।
  3. दिन में दो या तीन बार दही खाने से भी नाइटफॉल की संभावना कम हो सकती है।
  4. बिस्तर पर जाने से पहले पोर्न या यौन स्पष्ट दृश्य देखने से परहेज करना, रात को बेफिक्र रहेगा, अगर आप रोजाना पोर्न देखते हैं तो आपको स्‍पन्‍दोष की समस्‍या हो सकती है, इसलिए इस आदत में बदलाव आपकी मदद कर सकतता है।
  5. सोने जाने से पहले किताबें पढ़ने से नाइटफॉल की संभावना को कम किया जा सकता है। हालांकि, कामुक विषयों वाली पुस्तकें इसे बदतर बना सकती है। यदि आप इन सभी बदलावों से भी ठीक महसूस नहीं करते हैं तो आप एक डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं।

Leave a Reply

Top