fbpx class="post-template-default single single-post postid-700 single-format-standard custom-background wp-embed-responsive single-post-right-sidebar single-post-single fullwidth-layout columns-3 group-blog">
You are here
Home > हिंदी > सेक्सुअल स्वास्‍थ्‍य > सेक्सुअल स्वास्थ्य: शिलाजीत के बारे में संपूर्ण जानकारी

सेक्सुअल स्वास्थ्य: शिलाजीत के बारे में संपूर्ण जानकारी

शिलाजीत के बारे में संपूर्ण जानकारी

शिलाजीत प्रकृति की सबसे प्रभावी जड़ी बूटियों में से एक है जो सेक्‍सुअल स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। प्राचीन काल से लेकर वर्तमान काल तक आयुर्वेद में इसका उपयोग सदियों से कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को दूर करने में किया जा रहा है। लेकिन इसके बारे में अधिक जानकारी न होने से लोग इसका उपयोग करने से कतराते हैं। यहां हम बात करने वाले है शिलाजीत की संपूर्ण जानकारी के बारे में जिसमें आप ये जानेगें कि यह क्‍या है इसके फायदे और नुकसान क्‍या है और इसका सेवन कैसे करते हैं।

क्‍या है शिलाजीत ? 

क्‍या है शिलाजीत ? 

शिलाजीत एक काला, मोटा, चिपचिपा और टार जैसा बायोमास है जो मुख्य रूप से भारत के हिमालयी क्षेत्र में पाया जाता है। इस प्राकृतिक पूरक का उपयोग आयुर्वेद में 3,000 से अधिक वर्षों से किया गया है क्योंकि यह स्वास्थ्य लाभ की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। शिलाजीत के फायदे के बारे में बात की जाए तो इसका उपयोग पुरुष यौन स्वास्थ्य में सुधार से लेकर महिलाओं के यौन स्‍वास्‍थ्‍य सुधार में भी किया जाता है।

यह भी पढ़ें: ये 7 बुरी आदतें आपकी सेक्स लाइफ कर सकती है बर्बाद

शिलाजीत के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

शिलाजीत के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

  • बूस्‍ट एनर्जी: शिलाजीत में एक अत्यंत लाभकारी पूरक पाया गया जो ऊर्जा को प्राकृतिक बढ़ावा देने में सक्षम होता है यही कारण है कि यह एथलेटिक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है क्योंकि इसमें फुल्विक एसिड और अमीनो एसिड होते हैं जो शरीर के लिए अधिक ऊर्जा प्रदान करने में मदद करते हैं
  • सेक्‍स परफार्मेंस बढ़ाता है: प्राकृति रूप से सेक्‍स प्रदर्शन में सुधार के लिए यह का उपयोग सबसे अधिक किया जाता है। सेक्‍स विशेयज्ञों ने पुष्टि की है कि शिलाजीत में धीरज, शक्ति और एकाग्रता में प्रदर्शन क्षमताओं को बढ़ाने की क्षमता है। इसका उपयोग कई दवाईओं में भी किया जाता है।
  • हार्मोन संतुलन और भावनाओं में मदद करता है: इसमें उपस्थित खनिजों और पोषक तत्वों की उच्च मात्रा अंतःस्रावी तंत्र को मजबूत करने में मदद करती है, जो आपके हार्मोन और मूड के प्रबंधन के प्रभारी हैं।
  • एंटी-एजिंग प्रभाव है और दीर्घायु को बढ़ावा देता है: हमारी त्वचा की उम्र ऑक्सीडेटिव क्षति के कारण होती है, लेकिन क्योंकि शिलाजीत एंटीऑक्सिडेंट जैसे सेलेनियम, फॉस्फोलिपिड्स और ट्राइटरपेन से भरपूर होता है, जो ऑक्सीकरण को रोकने में मदद करता है, यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में मदद कर सकता है। इन प्रभावों के कारण, यह जीवनकाल को लंबा करने के लिए भी माना जाता है।
  • ब्रेन बूस्टर: जिन लोगों ने शिलाजीत का इस्तेमाल किया है, वे अपने संज्ञानात्मक कार्यों में एक सकारात्मक बदलाव का अनुभव करते हैं, जैसे कि फ़ोकस, मानसिक स्पष्टता, एकाग्रता और स्मृति। यह खनिजों और एल्कलॉइड, क्लोरोफिल, सैपोनिन और प्राकृतिक पौधों के तेल के मिश्रण के कारण होता है जो मस्तिष्क को पोषक तत्व देने में मदद करते हैं।
  • पोषक तत्वों की कमी को पूरा करता है: शिलाजीत को सुपरफूड माना जाता है क्योंकि इसकी भारी मात्रा में पोषक तत्व और खनिज होते हैं। यह अन्य पदार्थों से पोषक तत्वों को अवशोषित करने के लिए हमारे शरीर की क्षमता को भी बढ़ा सकता है। अपनी पोषक तत्वों की अधिकतम क्षमता के कारण, यह स्मूदी में मिश्रित होने पर एक लाभकारी पूरक बन सकता है, और यह उन लोगों की मदद कर सकता है जो दुर्भावनापूर्ण मुद्दों, क्रोहन रोग या सीलिएक रोग से पीड़ित हैं।
  • हैंगओवर और नशे से छुटकारा पाने में मदद करता है: यह हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करने के लिए सहायक है यही कारण है कि यह नशे के लत से छुटकारा दिलाने में भी मदद करता है।
  • रिकवरी में तेजी लाने में मदद करता है: शिलाजीत में मौजूद फुल्विक एसिड शरीर को अपनी कोशिकाओं को फिर से बनाने में मदद करता है, जिससे उसे आवश्यक पोषक तत्व मिलते हैं, जिससे किसी भी बाहरी और आंतरिक चोट की रिकवरी के समय को तेज करने में भी मदद मिलती है।

शिलाजीत के दुष्‍प्रभाव-

वैसे तो यह के सामान्‍य सेवन से फायदे ही देखने को मिलते हैं लेकिन गलत मात्रा में इसका सेवन शरीर को थकान, दुर्बलता, सरदर्द, पेट दर्द आदि बीमारियों मे डाल सकता है। कई लोगों में इसके अधिक सेवन से ब्‍लड प्रेसर जैसी बीमारीयों में बढ़ोतरी देखी गई है।

यह भी पढ़ें:  सर्दियों में अपनी त्वचा की देखभाल करना चाहते हैं तो इस स्किन केयर रूटीन को फॉलों करें-

कैसे करें शिलाजती का सेवन ?

शिलाजती का सेवन

भोजन के बाद गुनगुने दूध के साथ 1 शिलाजीत कैप्सूल लें। बेहतर परिणाम के लिए 2-3 महीने के लिए दिन में एक बार इसका सेवन जारी रखें।

घर पर शिलाजीत की शुद्धता की जाँच करें!

इसका सेवन करने से पहले शिलाजीत की शुध्‍दता जांच करना भी एक बहुत महत्‍वपूर्ण बात है। यहां जाने इसकी जांच करने के तरीके-

शिलाजीत को पानी में छोड़ दें और यदि यह कुछ समय बात पूरी तरह से पानी में घुल जाता है तो शुद्ध है।

शराब में शिलाजीत घोलने की कोशिश करें। शुद्ध शिलाजीत शराब में अघुलनशील है। यदि शराब में यह नहीं घुलता है तो आपका द्वारा उपयोग किया जा रहा शिलाजीत शुध्‍द है।

बाजार में यह एक पाउडर या पूरक के रूप में भी उपलब्ध है। आप इसका सेवन पानी या दूध के साथ कर सकते हैं लेकिन बेहतर परिणाम के लिए ज्‍यादा इसे दूध के साथ लिया जाता है। लेकिन इसका अधिक सेवन ने करें वरना आप इसके नकारात्‍मक प्रभाव भी देश सकते हैं। इसलिए इसका सही लाभ लेने के लिए इसके सही सेवन पर ध्यान दें।

यह भी जरूर पढ़ें-मुँहासों से हमेशा के लिए छुटकारा दिलाऐगें ये 5 घरेलू उपचार

Leave a Reply

Top